अध्यापकों ने याद की नेताजी की दरियादिली

 

प्रयागराज, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के निधन से शिक्षकों में शोक की लहर दौड़ गई। इलाहाबाद-झांसी खंड शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र से 2004 से एमएलसी और वर्तमान में विधान परिषद में नेता शिक्षक दल सुरेश कुमार त्रिपाठी कहते हैं कि मुलायम सिंह यादव स्वयं एक स्कूल में व्यायाम शिक्षक थे और माध्यमिक शिक्षक संघ के शाखा मंत्री भी रह चुके थे।
सत्ता में रहते हुए उन्होंने शिक्षकों को कई सौगात दी। माध्यमिक शिक्षक संघ के अलीगढ़ अधिवेशन में 1994 में उन्होंने सेवानिवृत्त शिक्षकों के लिए कोषागार से पेंशन देने की व्यवस्था लागू की। यही नहीं यह व्यवस्था एक जनवरी 1986 से प्रभावी की गई। उससे पहले शिक्षकों को महीनों पेंशन के लिए भटकना पड़ता था। शिक्षकों की सेवानिवृत्ति तिथि 60 वर्ष से बढ़ाकर 62 वर्ष की। मूल वेतन में 50 महंगाई भत्ता जोड़ने का आदेश भी दिया था। संगठन के राज्य सम्मेलनों में सम्मिलित होकर शिक्षकों को आशीर्वाद देते रहे। शिक्षक समाज अपने हितैषी नेता को कभी भुला नहीं सकता। संघ के प्रदेश मंत्री कुंज बिहारी मिश्र, शिक्षक नेता रामसेवक त्रिपाठी, मंडल अध्यक्ष रमेश चंद्र शुक्ल, मंडलीय मंत्री अनुज कुमार त्रिपाठी, राम प्रकाश पांडेय, जगदीश प्रसाद, नवीन पांडेय, रवीन्द्र त्रिपाठी आदि ने शोक व्यक्त किया।

Similar Posts