हर माह खण्ड शिक्षा अधिकारी करें 125 विद्यालयों का निरीक्षण

हर माह बीईओ करें 125 विद्यालयों का निरीक्षण : डीएम
देवरिया जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में जिला शिक्षा एवं अनुश्रवण समिति तथा जनपदीय टॉस्क फोर्स सदस्यों की बैठक शनिवार को विकास भवन के गांधी सभागार में हुई। इसमें बेसिक शिक्षा व सर्व शिक्षा अभियान तथा मध्याहन भोजन योजना के तहत संचालित योजनाओं की बिंदुवार समीक्षा की गई।
जिलाधिकारी ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को हर माह कम से कम 125 विद्यालयों के निरीक्षण करने के निर्देश दिए। कहा कि उपस्थिति न मिलने पर कार्य में शिथिलता मानी जाएगी तथा उत्तरदायित्व तय कर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
जिलाधिकारी ने खंड शिक्षा अधिकारियों की विकास खंड स्तर पर उपस्थिति करने के लिए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी हरिश्चंद्र नाथ को निर्देश दिए। कहा कि खंड शिक्षा अधिकारी प्रत्येक विद्यालय कार्यदिवस में स्कूल खुलने के समय सुबह नौ बजे निरीक्षण के लिए मौजूद रहें।
उन्होंने निरीक्षण का विवरण अध्यापक, बेसिक शिक्षा अधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी व उनके वाट्सएप ग्रुप पर उसी दिन तत्काल शेयर करने के लिए निर्देश दिए।
जिलाधिकारी ने कहा कि सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को अपने अपने ब्लाक के अध्यापकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों की संख्या अध्यापक एवं छात्रों का पोटीआर कितने अध्यापक, अध्यापिका आकस्मिक अवकाश मैटरनिटी ली आदि पर है, नामांकन आदि का विवरण 18 अक्तूबर को होने वाली बैठक में प्रस्तुत करें।
जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत होने के लिए निर्देश दिए गए ऑपरेशन कायाकल्प में 19 पैरामीटर्स के तहत संतृप्तीकरण के लिए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए गए।
17 एवं 18 पैरामीटर्स में जो दो व एक पैरामीटर्स से शत-प्रतिशत संतृप्त नहीं हो पा रहे हैं, उसको अपने विकास खंड के खंड विकास अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी (पंचायत), जिला विकास अधिकारी एवं जिला पंचायत अधिकारी से समन्वय स्थापित कर संतृप्त कराने के लिए जिलाधिकारी ने निर्देश दिए। कहा कि अगली समीक्षा बैठक में 19 पैरामीटर्स के संतृप्तीकरण की समीक्षा की खाएगी।
बीडीओ की अध्यक्षता में साप्ताहिक बैठकों के बारे में जारी कार्यवृत्त का अनुपालन संबंधित अधिकारियों से कराने के लिए जिला समन्वयक (निर्माण) को अधिकृत किया गया साथ ही निर्देश दिए गए कि माह सितंबर में जारी कार्यवृत्त के सापेक्ष विकास खंडवार प्राप्त समस्याओं का चार्ट तैयार कर मुख्य विकास अधिकारी को प्रस्तुत किया जाए।

जिलाधिकारी नेति विहीन विद्यालयों के बारे में बीडीओ को निर्देश दिए कि संबंधित विभाग के उच्चाधिकारियों से मिलकर एक सप्ताह के अंदर निदान कराएं। यदि किसी विद्यालय का प्रकरण निस्तारण नहीं हो पाता है तो सीडीओ के माध्यम से उन्हें अवगत कराएं।
सीडीओ रवींद्र कुमार ने खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए कि विकास खंडों में अध्यापकों का निपुण भारत मिशन के तहत चल रहे प्रशिक्षण में शत प्रतिशत उपस्थिति कराई जाए। इसका निरीक्षण सुबह, दोपहर एवं शाम को किया जाए। अनुपस्थित प्रशिक्षणार्थी के खिलाफ कार्रवाई भी की जाए। इस दौरान डीडीओ, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान रामपुर कारखाना के प्राचार्य, कल्याण अधिकारी डीपीआरओ डीआईओएस, जिला समाज आदि मौजूद रहे।

Similar Posts